KNOWKAHINDI

KNOWKAHINDI
KNOWKAHINDI

मंदिरों में घंटी क्यों बजाई जाती है |

क्या दोस्तों आपको पता है की मंदिर में घंटी क्यों होता है | आप अक्सर देखे होंगे की मंदिर में घंटी होती है | चाहे मंदिर छोटा हो या बड़ा आपको हर मंदिर में घंटी मिलेगा | जब पूजा होती है तो घंटी बजाई जाती है | और जब घर में भी पूजा होती है तो घंटी का उपयोग होता है | हिन्दू धर्म में रोज सुबह शाम आरती के समय घंटी बजाई जाती है | कहा जाता है की जब तक घंटी नहीं बजता है तब तक पूजा सफल नहीं होता है | घंटी बजाने के देवता खुश होते है | दोस्तों घंटी बजाना के पीछे क्या रहस्य है आइए जानते है | 

धर्मिक मन्यता
जब मंदिर में प्रवेश किया जाता है तो देवताओ से अन्दर आने के अनुमति के रूप में घंटी बजाई जाती है | अनुमति लेने के लिए घंटी बजाय जाता है | घंटी बजाकर प्रार्थना करने से देवी देवता खुश होते और और हमे दुखों से मुक्ति मिलती है | और मन शांत हो जाता है | इसलिए जब कोई मंदिर में प्रवेश करते है तो सबसे पहले घंटी बजाने के प्रथा है | कहा जाता है की जब दुनिया का आरंभ हुआ था उस समय जो आवाज गुंजा था वह घंटी जैसी थी | इसलिए इसे रोज बजाने की प्रथा है | घंटी से निकलने वाला आवाज से मन को शांति मिलती है | और कहा जाता है की घंटी बजाने से मानसिक रूप से मनुष्य मजबूत होता है | लेकिन दोस्तों घंटी बजाने से वैज्ञानिक तर्क भी है | तो दोस्तों आइए जानते है की वैज्ञानिक तर्क | 

Woman Holding Rope With Bell Near Body of Water


वैज्ञानिक तर्क 
जब घंटी बजाई जाती है उस समय घंटी के आवाज के साथ साथ तेज कंपन पैदा होती है यह कंपन हमारे आस पास काफी दूर फैल जाते है | इससे हमारे आस पास के वातावरण पवित्र हो जाता है | इसकी ध्वनि और कंपन जब टकराते है तो हमारे शरीर रिलैक्स हो जाता है | 
दोस्तों हम आशा करते है की यह पोस्ट आपको अच्छा लगा होगा |  

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ