KNOWKAHINDI

KNOWKAHINDI
KNOWKAHINDI

Bihar full form

दोस्तों बिहार भारत का एक राज्य है इसका इतिहास बहुत ही सुनहरा था इस महान पवित्र धरती पर बहुत से महान पवित्र आत्मा ने जन्म लिया | आज हम बात करेंगे Bihar full form बिहार का फुल फॉर्म क्या है | साथ ही जानेगे इस राज्य के इतिहास, जिला , पर्यटन स्थल और महापुरुष के बारे में | 

bihar-full-form
Bihar full form 

 Bihar full form kya ho sakta hai  


इंडिया में उत्तरी भाग में स्थित एक ऐतिहासिक राज्य प्राचीन नाम मगध था | उस समय मगध का राजधनी राजगीर हुआ करता था | 

पूरब में पश्चिम बंगाल उतर में नेपाल पश्चिम में उतर प्रदेश और दक्षिण में झारखण्ड है | विक्रमशिला विश्वविद्यालय और नलंदा विश्वविद्यालय में विदेशों से छात्र विद्या अध्ययन करने आते थे |

यह धरती बौद्ध का धरती है | भगवान बौद्ध दुनिया को अहिंसा का मार्ग दिखाया | लोगो को जीवन का कला सीखने वाले स्वामी महावीर का जन्म इसी धरती पर हुआ | माँ सीता का नाता इस पावन धरती से है 

सिख धर्म के दसवें गुरु ,गुरुगोविंद का का जन्म भी यहां हुआ था |  चरक ,वाल्मीकि ,चाणक्य का धरती रहा है | तो दोस्तों आइए जानते है बिहार के बारे में विस्तार से |



Bihar full form 



B - Brilliant

I - Intelligent

H - Hardwired 

A - All rounder

R - Respectful 



B - Bharat 

I - India 

H- Hindustan 

A -Aryavart 

R - Riwa



ऐसे आधारित तौर पर कोई  फुल फॉर्म  नहीं है | लेकिन यह फुल फॉर्म लोकप्रिय बन गया है | आपने जाना Bihar full form क्या हो सकता है | इसके आलावा भी बहुत से फुल फॉर्म हो सकते है | 


बिहार का इतिहास Bihar ka history in hindi 

Bihar history  



इसका इतिहास आपने आपने में शक्तिशाली इतिहास है | हिन्दु धर्म के शास्त्र रामायण में इस राज्य का जिक्र है अगर रामायण का बात करे तो बिहार के बिना रामयण अधूरा है क्योकि इसको लिखने वाले महर्षि वाल्मीकि 

और माँ सीता का नाता इसी पवित्र भूमि से है | माँ सीता जी का जन्म बिहार के मिथिला में हुआ था | माँ सीता राजा जनक की पुत्री थी | श्री राम के पुत्र लव कुश का जन्म वाल्मिकी जी के आश्रम में हुआ था | 

दुनिया के दो महान धर्म बौद्ध धर्म और जैन धर्म का जन्म स्थल है | सिख धर्म के अंतिम गुरु भी यहां के थे | इसे आज पटना साहिब के नाम से जाना जाता है | जो सिखो का पांच पवित्र स्थानों में से एक स्थान है |

दुनिया का सबसे महान राजनीतिक के ज्ञाता चाणक्य जिसका कुटनीति पुरे दुनिया में प्रसिद्द है वही चाणक्य जिसकी निति बहुत ही विख्यात है | 

चन्द्रगुप्त के प्रधानमंत्री थे | दुनिया को जितने का सपना देखने वाले सिकंदर धीरे धीरे अपने मसकद में जब सफल हो रहे थे | 

सिकंदर का घमंड तोड़ने वाला शासक बिहार के ही थे |  जब सिकंदर दुवारा भारत पर हमला किया गया उस समय चन्द्रगुप्त किशोरावस्था में थे | 

सिकंदर ने राजा पुरु को हरा दिया था | राजा पुरु भी बहुत महान शासक में एक थे | पुरु को हराने के बाद अगला निशाना नन्द साम्रज्य पर था | नन्द शासक के पास विशाल सेना थी | 

सिकंदर ने चन्द्रगुप्त के सामने घुटना टेक दिया | दुनिया को शून्य देने वाला आर्यभट्ट यही के थे | भारत के महान राजा अशोक जो बाद में अहिंसा का रास्ता चुना |


बिहार का मध्यकालीन इतिहास 


विदेशी शासको के आक्रमण से बिहार को क्षति हुई | इस कारण मध्यकालीन युग में राजनितिक और संस्कृतिक केंद्र  के रूप में अपनी प्रतिष्ठा गंवा चूका था | 

तब उस समय एक ही शासक लोकप्रिय था वह था शेरशाह | आधुनिक सासाराम शेरशाह सूरी का केंद्र था | मगध में बौद्ध धर्म मुहम्मद बिन बख़ितयार खिलजी के आक्रमण की कारण गिरावट में पड़ गया | 

 विहार और नालंदा विक्रमशिला के प्रसिद्ध विश्व विद्यालयों को नष्ट कर दिया गया 


बिहार का आधुनिक इतिहास  



फिरंगी को धूल चटाने वाला शेर बाबु वीर कुंवर सिंह एक महान युध्दा थे | उसने 80 साल के उम्र में यह देश को बता दिया युद्ध के मैदान में उम्र नहीं देखा जाता देखा जाता है तो हौसला हिम्मत | 

भले ही महत्मा गाँधी का जन्म गुजरात में हुआ था लेकिन गाँधी जी का कर्मभूमि बिहार ही है | गाँधी जी का प्रथम आंदोलन चम्पारण से शुरू हुआ था | 

भारत के प्रथम  राष्ट्रपति डा. राजेंद्र प्रसाद  विख्यात राजनेता  सारण जिला के थे | 


आपने ऊपर में जाना Bihar full form और बिहार के इतिहास | 



बिहार नाम क्यों पड़ा 



बिहार शब्द पाली और संस्कृत भाषा विहार से बना है | जिसका मतलब निवास या रहने का जगह होता है | विहार शब्द से बना |

बिहार का वर्तमान हालत 


राजधनी पटना जिसका पुराना नाम पाटलीपुत्र था | सबसे बड़ा नगर पटना ही है | वर्तमान में बिहार एक पिछड़ा लेकिन अब यह तेजी से विकास कर रहा है |

बिहार के महापुरुष Bihar ke mahapurush 



महात्मा बुद्ध 

महात्मा बुद्ध बौद्ध धर्म के संस्थापक है | महात्मा बुद्ध को एशिया का पुंज कहा जाता है | जन्म नेपाल के कपिलवस्तु लुम्बिनी नामक स्थान पर 563 ई. पू हुआ था | बचपन का नाम सिद्धार्थ |

पिता का नाम शुद्धोधन तथा माता का नाम महामाया देवी थी | इनके पिताजी शक्य गण के मुखिया थे | गोत्र गौतम होने के वजह  से उन्हें गौतम बुद्ध कहा गया | 

सिदार्थ बचपन से ही करुणा रूप और गंभीर स्वभाव के थे | जब सिद्धार्थ 16 वर्ष का हुआ तो इनका विवाह यशोधरा नामक राजकुमारी से हुआ | पुत्र का नाम राहुल रखा गया | 

एक दिन कपिलवस्तु का सैर करते समय उन्होंने एक वृद्ध व्यक्ति , एक बीमारी , एक मुर्दे और एक सन्यासी पर पड़ा | सांसारिक समस्या से दुखी होकर सिद्धार्थ ने 29 वर्ष के उम्र में घर त्याग दिया | 

और सत्य की खोज में चल गया | महात्मा बुद्ध के घर त्याग के घटना को महाभिनिष्क्रमण कहा जाता है | सिद्धार्थ के प्रथम गुरु आलरकलाम थे | 


स्वामी महावीर 


जैन धर्म के 24 तीर्थकर थे | दोस्तों महावीर सत्य और अहिंसा के प्रतीक थे | पशुवली और जातिभेद के घोल विरोधी थे | 

महावीर ने राजपाठ छोड़ कर विश्व के कल्याण के लिए तप और त्याग का मार्ग अपनाए | महावीर का जीवन हम सब के लिए प्रेरणा है | 12 वर्ष कठिन तपस्या किये | 

जन्म ईसा से 599  वर्ष पहले वैशाली गणतंत्र राज्य में हुआ था | जो वर्तमान में बिहार में है | महावीर का माँ का नाम त्रिशला और पिताजी का नाम सिद्धार्थ था | महावीर के पिता यहाँ के क्षत्रिय राजा थे |

स्वामी महावीर का नाम वर्धमान रखा गया | वर्धमान नाम रखने के पीछे एक यह कारण था की जब महावीर जन्म लिए थे तो राज्य में अधिक उन्नति होने लगा था | इसलिए महावीर का नाम वर्धमान रखा गया | 

गुरु गोविंद सिंह


गुरु गोविंद सिंह एक महानपुरुष थे | सिख धर्म के दसवे और अंतिम गुरु | इनका जन्म 22 दिसंबर 1666 में पटना में हुआ था | यह एक महान योद्धा के साथ साथ महान कवि भक्त और आध्यात्मिक नेता थे | 

1699 में बैसाखी के दिन खालसा पंथ की स्थापना की जो भारत के इतिहास का सबसे महत्वपूर्ण दिन में से एक है | धर्म के लिए परिवार का बलिदान किया इसके लिए गुरु गोविंद सिंह को सरबांसदानी भी कहा जाता है | 

राजा अशोक


राजा अशोक विश्वप्रसिद्ध एवं शक्तिशाली मौर्य राजवंश के महान सम्राट थे | इसका पूरा नाम देवानां प्रिय अशोक मौर्य था | इन्होने अखंड भारत पर राज्य किया | 

राजा अशोक विश्व के सभी महान एवं शक्तिशाली राजा की पंक्तियों में हमेशा शीर्ष स्थान पर है | इसे चक्रवर्ती सम्राट अशोक कहा जाता है जिसका अर्थ है सम्राटों का सम्राट यह स्थान केवल अशोक को मिला है | 

ज्योतिषविद और गणितज्ञ आर्यभट 

दुनिया को शून्य देने वाले आर्यभट एक महान ज्योतिषविद और गणितज्ञ थे | इन्होने आर्यभटीय ग्रन्थ की रचना की जिसमे ज्योतिषशास्त्र के अनेक सिद्धांतो का प्रतिपादन है | 

वात्स्यायम 


अर्थ के क्षेत्र में जो स्थान कौटिल्य को दिया जाता है वही स्थान वात्स्यायम को भी दिया जाता है | भारत के महान दार्शनिक थे | इसका समय गुप्तवंश के समय माना जाता है | 

आचर्य चाणक्य


चाणक्य चन्द्रगुप्त मौर्य के महामंत्री थे | मौर्य सम्राट की स्थापना में सबसे महत्वपूर्ण कार्य इन्होने की किया था | तक्षशिला विश्वविधालय के आचार्य थे | इसके द्वारा रचित ग्रन्थ एक महान ग्रन्थ में से एक है | यह कूटनीति में दुनिया मे बहुत ही ज्यादा प्रसिद्ध है | 

डॉ राजेंद्र प्रसाद


जन्म 3 दिसम्बर 1884 में हुआ था | यह भारतीय स्वाधीनता आंदोलन के प्रमुख नेताओ में थे | इन्होने राष्ट्रीय कांग्रेस के अध्यक्ष के रूप में मुख्य भूमिका निभाई | 

भारतीय संविधान के निर्माण में बहुत योगदान रहा | प्रथम राष्टपति के रूप में देश का सेवा करने का मौका मिला | सम्मान में उन्हें राजेंद्र बाबू कहकर पुकारा जाता है | 

सम्राट समुद्रगुप्त

समुद्रगुप्त भारत के इतिहास में एक महान राजा वे गुप्त राजवंश के चौथे राजा थे | उनके राज्य का राजधानी पाटलिपुत्र थी | उनका शासन को स्वर्णयुग कहा जाता है | 

श्री कृष्ण सिन्हा 


एक महान स्वतंत्रता सेनानी थे इन्हे आधुनिक बिहार का निर्माता कहा जाता है उनका जन्म 1887 में हुआ था | 

फणीश्वर नाथ रेणु 


जन्म 4 मार्च 1921 को अररिया जिले में हुआ था | प्रेमचंद देश का महान लेखक में से एक थे | फणीश्वर नाथ रेणु को आजादी के बाद का प्रेमचंद कहा जाता है | 


रामधरी सिंह दिनकर 


हिंदी के प्रमुख लेखक निबंधकार और कवि थे | राष्ट्रकवि के नाम से जाने जाते है | इनका जन्म 24 दिसंबर 1908 में बेगूसराय जिले में हुआ था | 



बिहार के पर्यटन स्थल 


गया  


भगवान बुद्ध को ज्ञान की प्राप्ति हुआ था | यह एक तपोभूमि है यह बुद्ध धर्म के लिए पवित्र स्थल है यहां पर विष्णुपद मंदिर है दंतकथाओं के अनुसार भगवान विष्णु के पांव के निशान पर इस मंदिर का निर्माण कराया गया है | 


पटना 


राज्य का राजधानी है गंगा नदी के दक्षिणी छोर पर स्थित है | पहले इसे पाटलिपुत्र के नाम से जाना जाता था |  गुरु गोविंद सिंह का जन्म स्थल है साहिब गुरुद्वारा में शांति आध्यत्मिक का सुख मिलता है | 


वैशाली 


तीर्थ स्थल है यहां पर भगवान महावीर का जन्म हुआ था | ऐसा माना जाता है की वैशाली का नाम महाभारत काल से संबंध रखता है | जोकि राजा विशाल के नाम पर रखा गया है | 

नालंदा


विश्व प्रसिद्द नालंदा विश्वविधालय भारत ही नहीं दुनिया में एक गौरव था | नालंदा में विदेशो से लोग पढ़ने आते थे | यह धरती शिक्षा के लिए प्रसिद्ध था | 

भागलपुर 


भागलपुर में स्थित विक्रमशिला विश्वविधालय का खंडहर अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पर्यटकों के आकर्षण का केंद्र है | इस विश्वविधालय का स्थापना पाल वंश के राजा धर्मपाल ने आठवीं सदी के अंतिम वर्षो या नौवीं सदी की शुरुआत में हुआ था | इस शहर को सिल्क सिटी कहा जाता है | 


बिहार के बारे में एक नजर Bihar facts




22 मार्च को बिहार दिवस मनाया जाता है | 

गणित में माहिर होते है | 

आईएएस बनाने की फैक्ट्री माना जाता है | 

आस्था का महापर्व यहां बहुत धूमधाम से मनाया जाता है | मॉरीशस के पहले प्रधानमंत्री सिवासागर रामगुलाम बिहार से थे | 

 वैशाली दुनिया का पहला गणराज्य है वैशाली भगवान महावीर का जन्मस्थल है | 

इसका नाम संस्कृत भाषा के एक शब्द vihara से लिया है 

नालंदा और विक्रमशिला जैसे विश्व विधालय है | 

मिथला का पेटिंग पुरे विश्व में विख्यात है | 

सोनपुर मेला पुरे विश्व में प्रसिद्ध है | 



बिहार के जिले Bihar District



  • अररिया 
  • अरवल 
  • औरंगाबाद 
  • कटिहार 
  • किशनगंज 
  • कैमूर 
  • खगड़िया 
  • गया
  • गोपालगंज 
  • जमुई 
  • जहानाबाद 
  • पश्चिमी चम्पारण 
  • पूर्वी चम्पारण 
  • दरभंगा 
  • नवादा 
  • नालंदा 
  • पटना 
  • चम्पारण 
  • पूर्णिया 
  • बक्सर 
  • बाँका 
  • बेगूसराय 
  • भागलपुर 
  • भोजपुर 
  • मधुबनी 
  • मधेपुरा 
  • मुंगेर 
  • मुजफ्फरपुर 
  • रोहतास 
  • लखीसराय 
  • वैशाली 
  • शिवहर 
  • शेखपुरा 
  • समस्तीपुर 
  • सहरसा 
  • सारन 
  • सीतामढ़ी 
  • सिवान 
  • सुपौल 


आशा करता हूँ की Bihar full form का यह आर्टिकल आपको अच्छा लगा होगा | 


 





टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां