KNOWKAHINDI

KNOWKAHINDI
KNOWKAHINDI

Guru Nanak Janyanti Wish and Guru Nanak Jayanti 2020

Guru Nanak Janyanti Wishes. Guru Nanak Jayanti 2020.  Essay on Guru Nanak dev ji  in Punjabi: 

गुरु नानक देव एक महान आत्मा थे | गुरु नानक जी ( Guru Nanak) सिख धर्म के संस्थापक थे | गुरु नानक (Guru Nanak) जी के याद में नानक देव के जयंती पर प्रकाश पर्व (Prakash parv ) या गुरु पर्व (Guru Parv ) मनाया जाता है | गुरु नानक ( Guru Nanak ) जयंती कार्तिक पूर्णिमा के दिन मनाया जाता है | लोग इस दिन  Guru Nanak Janyanti Wishes करते है | 


प्रकाश पर्व में Gurudwara सजकर तैयार हो जाता है | Gurudwara में कीर्तन भजन आदि कार्यक्रम किया जाता है | और रूमाल चढ़ाते है | Gurudwara में लंगर खिलाया जाता है | गुरु पर्व (Guru Prav ) के दिन लोग सेवा आदि करते है | आपने भारतीय संस्कृति में सेवा का महत्व है | 


(Guru Nanak ) गुरु नानक जयंती पर सिख समुदाय के लोग वाहे गुरु का जाप करते है | और प्रभात फेरी  निकालते है | सिख समुदाय के साथ साथ सभी धर्म के लोग शामिल होते है | आपने देश का एक बहुत अच्छा संस्कृति है चाहे कोई भी त्योहार हो | सभी धर्म के लोग मिलकर मनाते है | 


Guru Nanak Jayanti Kab hai . गुरु नानक जयंती कब है | 

Guru Nanak Jayanti इस बार 30 नवंबर को है जो की सोमवार का दिन है | गुरु नानक (Guru Nanak ) का जन्म संवत 1526 को कार्तिक पूर्णिमा (Kartik Purnima ) के दिन हुआ था | गुरु नानक (Guru Nanank ) जयंती पुरे देश में बड़े उत्साह के साथ मनाया जाता है | लोग  Guru Nanak Janyanti Wishes करते है | 


Guru Nanak Jayanti 2019 में कब था | 

Guru Nanak Jayanti 2019 में 12 नवंबर को मंगलवार को था | 

Guru Nanak Jayanti 2021 में 19 नवम्बर को शुक्रवार को है | 


 


Guru-Nanak-Jayanti-Wishes



गुरु नानक का जीवन परिचय  -

Guru Nanak का जन्म कार्तिक पूर्णिमा के दिन हुआ था | जो की भारत का महान त्योहार दीपावली के 15 दिन बाद आता है | Guru Nanak का जन्म रावी नदी के किनारे तलवंडी नामक गाँव में हुआ था | अब यह जगह पाकिस्तान में है | तलवंडी पाकिस्तान में पंजाब प्रान्त का एक शहर है | 


गुरु नानक (Guru Nanak ) के पिताजी का नाम कालचन्द्र खत्री और माँ का नाम तृप्ता देवी थी | तलवंडी अब ननकाना कहलाता है | जब नानक जी कुछ बड़े हुए तो पढ़ने के लिए पाठशाला जाने लगा | गुरु नानक जी का बुध्दि सहज था | गुरु नानक ( Guru Nanak ) कभी कभी आपने गुरु जी से एकदम अजीब अजीब सवाल पूछ देते थे | गुरु जी भी सवाल सुनकर थोड़ा विचलित हो जाता था | 

गुरु नानक ( Guru Nanak ) जी बचपन से ही सांसारिक विषय से उदासीन रहते थे | और ज्यादा से ज्यादा समय आध्यत्मिक चिंतन और सत्संग में समय बिताता था | पढ़ने लिखने में मन नहीं लगता था | बचपन के समय में कई घटनाए घटी जिन्हे देखकर गाँव वाले को  यह समझ में तो आ गया की यह कोई साधारण व्यक्ति तो नहीं है | गांव वाले गुरु नानक ( Guru Nanak ) को दिव्य व्यक्ति मानने लगे थे | 

बचपन से ही गुरु नानक जी के बहन और गांव से प्रमुख गुरु नानक जी से श्रदा रखते थे | 


गुरु नानक ( Guru Nanak ) का विवाह सोलह वर्ष के उम्र में ही गया था | गुरदासपुर जिले के अंतर्गत लाखौकी नामक स्थान की रहने वाली कन्या के साथ गुरु नानक (Guru Nanak) के साथ विवाह हुआ | गुरु नानक (Guru Nanak) के पत्नी का नाम सुलक्खनी थी | जब गुरु नानक (Guru Nanak) देव जी 32 वर्ष के हुए तो गुरु नानक (Guru Nanak) देव के घर में एक नन्हा प्रथम बच्चे का जन्म हुआ | दूसरे बच्चे का जन्म फिर चार वर्ष के बाद हुआ | 

प्रथम पुत्र का नाम श्री चंद और दूसरे पुत्र का नाम लखमीदास था | इन दोनों के जन्म के कुछ समय बाद ही आपने साथियों के साथ तीर्थयात्रा पर निकल गए | और काफी यात्रा किया | 1521 तक यात्रा किया | यात्रा के दौरान गुरु नानक (Guru Nanak) उपदेश देते और समाजिक कुरीतियाँ के खिलाफ जागरूक करते | गुरु नानक (Guru Nanak) देव  ने अनेक जगह यात्रा किया अरब देशो के भी यात्रा किए | इन यात्रा को पंजाबी में उदासियाँ कहा जाता है | 


Guru Nanak Janyanti Wishes
Guru Nanak Jayanti Quotes or Quotes on Guru Nanak Jayanti 


लख - लख बधाई आपको 

गुरु नानक का आशीर्वाद मिले आपको 

ख़ुशी का जीवन से रिश्ता हो ऐसा 

दिये का बाती संग रिश्ता है जैसा 

 


राज करेगा खालसा , बाके रहे ना कोए 

वाह गुरु जी का खालसा, वाह गुरु जी फ़तेह || 

हैप्पी गुरु नानक जयंती का शुभकामना || 


खालसा मेरा रूप है खास , 

खालसा में ही करू निवास,

खालसा अकाल पुरख की फौज ,

खालसा मेरा मित्र कहाए ,


नानक नीच कहे विचार, 

वेरिया ना जाव एक वार, 

जो टूड भावे सई भली कार,

तू सदा सलामत निरंकार || 



वाहेगुरु का आशीष सदा, 

मिले ऐसी कामना है , हमारी, 

गुरु की कृपा से आएगी , 

घर घर में खुशहाली || 


खुशियां और आपका जन्म - जन्म का साथ हो 

हर किसी की जुबान पर आपकी हंसी की बात हो ,

जीवन में कभी कोई मुसीबत आए भी ,

तो आपके सिर पर गुरु नानक जी का हाथ हो || 


गुरु नानक देव जी के सद्कर्म ,

हमे सदा दिखाएगे राह 

वही गुरु के ज्ञान से,

सबके बिगड़े हुए कामकाज बन जाएँगे || 



सतगुरु सब दे काज संवारे आप सबो को सिख धर्म के 

प्रथम गुरु भारत के महान आत्मा में से एक गुरु नानक (Guru Nanak )

जयंती पर शुभकामनाए | आप हमेशा खुश रहे यह गुरु जी से 

प्रार्थना करते है | 


लोग इस दिन बहुत ख़ुशी के साथ  Guru Nanak Janyanti Wishes करते है | 


Guru Nanak Jayanti Holilday और Guru Nanak Janyanti Wishes. 

दोस्तों जैसे की आप जानते ही है की गुरु नानक जयंती एक पवित्र दिन है | गुरु नानक (Guru Nanak ) को प्रकाश पर्व के नाम से भी जाना जाता है | यह पर्व सिख धर्म के लिए महत्वपूर्व त्योहार है | इस दिन कर्तिक पूर्णिमा का दिन होता है | इस दिन लोग हॉलिडे मनाते है | 


गुरु नानक जयंती Guru Nanak Janyanti Wishes

गुरु नानक के जीवन के स्मरण और सम्मान के लिए यह त्योहार मनाया जाता है | गुरु नानक Guru Nanak का जन्म देवत्व का प्रतीक है | गुरु नानक जी सबका मालिक एक में विश्वास रखते थे | उन्हे विश्वास था की कोई भी व्यक्ति प्रार्थना के माध्यम से ईश्वर से जुड़ सकता है | 

गुरु नानक (Guru Nanak ) देव जी का सारा शिक्षण प्रवित्र ग्रन्थ गुरु ग्रन्थ में है | गुरु नानक (Guru Nanak ) पर्व गुरुद्वारा में कुछ दिन पहले से ही मनाना शुरू हो जाता है | नगरकीर्तन के रूप में जाना जाने वाला जुलुस का आयोजन होता है | इस जुलुस का नेतृत्व पांच पुरुषों द्वारा किया जाता है | जिसको पंज प्यारे के रूप में जाना जाता है | 

गुरु नानक (Guru Nanak ) प्रकाश पर्व के सुबह का शुरूआत भजनो के साथ शुरू होता है | भजन एक ऐसा दवाई है जो रूहानियत पैदा करती है | त्योहार के पहले गुरुद्वारों में लगातार 48 घंटे तक पवित्र ग्रन्थ पढ़ने की परंपरा है | इसके बाद गुरु की स्तुति होता है | प्रार्थना और कथाएँ होता है | लंगर खिलाया जाता है | सेवा आदि किया जाता है | 


त्योहार हमारे देश का पहचान है त्योहार मनाने के पीछे रहस्य है | त्योहार खुशिया मनाने के लिए होता है | आप लोग भी  Guru Nanak Janyanti Wishe कीजिए और खुशियां फैलाइये | 


CHHATH PUJA. छठ पूजा | 

दिपावली  पूजा लक्ष्मी पूजा काली पूजा के बारे में महत्वपूर्ण तथ्य |

ESSAY ON DURGA PUJA . दुर्गा पूजा पर  निबंध |


एक टिप्पणी भेजें

1 टिप्पणियाँ